Sanskrit Grammar Class 10 PDF 2022 | संस्कृत व्याकरण

Sanskrit Grammar Class 10:- संस्कृत जो कि देवनागरी लिपि की एक भाषा है | भारत व विश्व की प्राचीनतम भाषाओं के सूची में संस्कृत भाषा सबसे पहले स्थान पर आती है | इसके साथ-साथ संस्कृत भाषा को भाषाओं की जननी भी कहा जाता है | संस्कृत भाषा को आर्यों की भाषा कहा जाता है एवं यह वैदिक युग की भाषा है अर्थात आज से लगभग 3500 वर्ष पुरानी भाषा है |

Sanskrit Grammar Class 10

भारत की प्राचीन काल के अधिकांश धर्म-ग्रंथ या पुस्तकें या काव्य-ग्रंथ व रचनाएं संस्कृत भाषा में ही है | वर्ग 10 में संस्कृत भाषा एक अनिवार्य भाषा है जो कि कुल 100 अंकों की होती है जिसमें कुछ प्रश्न वर्ग 10 के संस्कृत किताबों से तो कुछ प्रश्न संस्कृत व्याकरण से संबंधित होती है | Sanskrit Vyakaran से संबंधित उन सभी बिंदुओं को आप आज इस लेख के माध्यम से पढ़ेंगे |

Sanskrit Grammar Class 10 Sanskrit Vyakaran:- आज आप संस्कृत व्याकरण के उन बिंदुओं को जानेंगे जो कि आपको वर्ग 10 के बोर्ड परीक्षा में संस्कृत भाषा में अच्छे अंक प्राप्त करने में मदद करेगी |

कारक प्रकरणसमास प्रकरणउपसर्ग व प्रत्यय प्रकरण
संधि प्रकरण अव्यय प्रकरणपर्यायवाची शब्द
शब्द रूपधातु रूपविलोम शब्द
Sanskrit Grammar Class 10 Sanskrit Vyakaran

चलिए जानते हैं इन सभी महत्वपूर्ण बिंदुओं के बारे में | कारक प्रकरण से हमारी शुरुआत होगी | कारक प्रकरण, संस्कृत अनुवाद का नीव है इसकी सहायता से ही आपलोग किसी भी वाक्य का संस्कृत भाषा में अनुवाद कर सकते हैं | यह प्रकरण के बारे में कुछ निम्न बातें जो आपको अनुवाद करते समय बहुत ही उपयोगी साबित होगी | जाने कारक प्रकरण के बारे में विस्तार से – कारक प्रकरण

karak in sanskrit Vyakaran

कारक प्रकरण को सात व्यक्तियों में बांटा गया है जो कि इस प्रकार है –

कारक के नामउनकी विभक्तियाँ
कर्ता कारक प्रथमा विभक्ति
कर्म कारक द्वितीया विभक्ति
करण कारक तृतीया विभक्ति
सम्प्रदान कारक चतुर्थी विभक्ति
अपादान कारक पंचमी विभक्ति
सम्बन्ध कारक षष्ठी विभक्ति
अधिकरण कारक सप्तमी विभक्ति
karak in sanskrit Vyakaran

अव्यय प्रकरण – किसी वाक्य में ऐसी शब्द जिनका रूप परिवर्तित नहीं होता हो | खास तौर हिंदी से संस्कृत भाषा में अनुवाद करते समय इसका उपयोग किया जाता है | अव्यय प्रकरण के बारे में अधिक जानकारी के लिए अभी पढ़े अव्यय प्रकरण पर लिखे इस लेख को – अव्यय प्रकरण

संस्कृत अव्यय पदहिंदी अर्थसंस्कृत अव्यय पदहिंदी अर्थ
अकस्मातअचानकअतःअतः
अत्रयहाँअथवाया
अपिभीअयेहे
अतिअत्यधिकअतीवअत्यधिक
अहोअहोअथइसके बाद
अथकिम्हाँ और क्याआद्यआज
आरातनजदीकआद्यपिआज भी
अग्रेसामनेइतःयहाँ से
अरेहेपरितःचारों ओर
अहहहायएवमइस प्रकार
Sanskrit Grammar Class 10 Sanskrit Vyakaran

Samas in sanskrit vyakaran

समास प्रकरण:- संस्कृत व्याकरण के सबसे दीर्घ व संस्कृत भाषा को औरों से अलग एवं महान भाषा बनाने में समास प्रकरण का बहुत महत्व है | समास प्रकरण से संबंधित बहुत सारे प्रश्न आपको वर्ग 10 के बोर्ड परीक्षा व कई प्रतियोगी परीक्षा में भी पूछा जाता है| समास प्रकरण:- समास के भेद और उनके विश्लेषण पढ़े जो कि आपको समास प्रकरण को समझने में सहायता प्रदान करेगी – समास प्रकरण

सामासिक शब्दसमास का नाम
यथाशक्तिअव्ययीभाव समास
यथाकालम्अव्ययीभाव समास
प्रतिदिनम्अव्ययीभाव समास
शरणागतःद्वितीया तत्पुरुष समास
मासपूर्वःतृतीया तत्पुरुष समास
आचरनिपुणःतृतीया तत्पुरुष समास
नीलोत्पलमकर्मधारय समास
जायापतीद्वन्द्व समास
त्रिलोकीद्विगु समास
पीताम्बरःबहुव्रीहि समास
Sanskrit Grammar Class 10 Sanskrit Vyakaran

उपसर्ग प्रकरण:- उपसर्ग जिससे आप अंग्रेजी भाषा में Prefix कहते हैं अर्थात किसी शब्द के पहले जोड़कर उस शब्द का मूल अर्थ को बदल डालाना | जिस शब्द को जोड़कर किसी शब्द का मूल अर्थ परिवर्तित किया जाता है, उस शब्द को उपसर्ग कहते हैं | इस प्रकरण के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप भी पढ़ें उपसर्ग प्रकरण पर लिखे हुए लेख – उपसर्ग प्रकरण

Sanskrit Grammar Class 10 – प्रत्यय प्रकरण:- प्रत्यय अर्थात suffix, suffix की ही संस्कृत प्रत्यय होती है, जिस तरह आप suffix शब्द का उपयोग कर अंग्रेजी भाषा के शब्दों का अर्थ परिवर्तित करते हैं उसी प्रकार संस्कृत भाषा में भी प्रत्यय जोड़कर शब्दार्थ बदल जाते हैं | इस प्रकरण के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप भी पढ़ें इस प्रकरण पर लिखे हुए लेख – प्रत्यय प्रकरण

उपसर्ग + शब्दशब्दशब्द + प्रत्ययशब्द
प्र + हारःप्रहारःभू + क्तभूतः
आ + हारःआहारःगम् + क्तगतः
वि + हारःविहारःआ + गम् + क्तआगतः
उप + हारउपहारपा + क्तपीतः
उप + सरतिउपसरतिभू + क्तवतभूतवान
Sanskrit Grammar Class 10 Sanskrit Vyakaran

Sandhi in sanskrit vyakaran

संधि प्रकरण:- संधि प्रकरण, समास प्रकरण की ही भांति, संस्कृत व्याकरण का बहुत बड़ा भाग है | किसी दो शब्दों का मेल संधि व किसी एक शब्द का एक से अधिक शब्दो में विच्छेदन ही संधि विच्छेद कहलाती है | इस प्रकरण के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप भी पढ़ें इस प्रकरण पर लिखे हुए लेख – संधि प्रकरण

संधिशब्द
अधि + ईश्वरःअधीईश्वरः
नदी + ईशःनदीशः
कार्य + आलयःकार्यालयः
राम + अयनमरामायणम
महा + अनुभावमहानुभावः
लोक + अपवादलोकापवादः
सेवा + आश्रमसेवाश्रमः
दंड + अग्रमदण्डाग्रम
देव + आत्मादेवात्मा
देव + आलयःदेवालयः
Sanskrit Grammar Class 10

Sanskrit Vyakaran – शब्द रूप व धातु रूप:- संस्कृत व्याकरण का एक महत्वपूर्ण भाग शब्द रूप व धातु रूप होती है | शब्द रूप व धातु रूप के बारे में अधिक जानकारी के लिए पढ़े – शब्द रूप व धातु रूप |

Leave a Comment

Your email address will not be published.